कोका कोला इंडिया फाउंडेशन ने साहस, चिंतन और हसीरू दला जैसे एनजीओ और स्टार्टअप्स के साथ एकीकृत कचरा प्रबंधन प्रणाली को लागू किया
June 4, 2019 • Daily Canon Times

नई दिल्ली, 5 जून 2019 : कोका कोला इंडिया फाउंडेशन आनंदना ने साहस, चिंतन और हसीरू दला जैसे एनजीओ और स्टार्टअप्स के साथ साझेदारी में एकीकृत कचरा प्रबंधन प्रणाली की स्थापना की घोषणा की है। इसके अंतर्गत कचरे को अलग-अलग करने के लिए मटीरियल रिकवरी और सेग्रिगेशन फैसिलिटीज (एमआरएफएस) की भी स्थापना की जाएगी। इस प्रकार की साझेदारी से सामाजिक स्‍तर पर अनेक नई पहलों की शुरूआत होगी, जिसके तहत व्यक्तिगत रूप से कचरा प्रबंधन की सेवाएं देने वाले अनौपचारिक क्षेत्र को औपचारिक क्षेत्र में शामिल कर लिया जाएगा। कचरे को अलग-अलग करने के बारे में भी जनजागरूकता फैलाने की पहल की जाएगी। इससे कचरे के निपटारे संबंधी सोच में बदलाव आएगा और प्राकृतिक परिवेश की सुरक्षा सुनिश्चित होगी। 

कचरे को अलग-अलग करने की पर्याप्त सुविधाओं का नहीं होना कचरे की री साइक्लिंग के क्षेत्र में आने वाली प्रमुख बाधा है, जिससे री साइक्लिंग पर असर पड़ता है। अलग-अलग किए बिना ठोस कचरे को जलाने से भी वायु प्रदूषण बढ़ सकता है। आनंदना ने अपने कई एनजीओ पार्टनर के साथ मिलकर कचरे से ठोस पदार्थ बरामद करने के लिए नए आधारभूत ढांचे की स्थापना की घोषणा की है, जिसमें पीईटी और गीले कचरे से खाद बनाने की यूनिट शामिल हैं। कचरा प्रबंधन के ये संयंत्र भारत में कई जगहों, दिल्ली, एनसीआर, चेन्नई, आंध्रप्रदेश, उत्तर प्रदेश और कर्नाटक पर स्थापित किए जाएंगे।

 

इश्‍तेयाक अमजद, वाइस प्रेसिडेट-पब्लिक अफेयर्स, कम्‍यूनिकेशन्‍स एंड सस्‍टैनिबिलिटी, कोका-कोला इंडिया एवं दक्षिण पश्चिम एशिया ने कहावर्ष 2025 तक भारत के शहरों में कचरा उत्पादन की दर दोगुने से भी ज्यादा बढ़ने की उम्मीद है। यह स्थिति आय में बढ़ोतरी ओर शहरी क्षेत्रों की आबादी बढ़ने के कारण आई है। आज हम अपने सहयोगियों के साथ कचरा प्रबंधन की विक्रेंद्रीयकृत व्यवस्था में शामिल अपने दम पर काम करने वाली संस्थाओं को प्रोत्साहित करना चाहते हैं। यह साझेदारी कंपनी के विजन वर्ल्ड विदआउट वेस्ट को साकार करने और वर्ष 2030 तक अपने संयंत्रों में आने वाले पूरे के पूरे कचरे की री-साइक्लिंग के लक्ष्य को हासिल करने के लिए बनाई गई है। 

साहस की दिव्या तिवारी ने कहाकचरे के निपटारे की समस्या के हल के लिए हम कोका-कोला से अपनी साझेदारी कायम रखकर हम काफी उत्साहित हैं। गीले और सूखे कचरे को अलग-अलग रखने, संसाधनों की तलाश और रिसाइक्लिंग से कचरे के निपटारे की समस्या का हल होगी। कचरा प्रबंधन की विकेंद्रीयकृत व्यवस्था इस सफर को आगे बढ़ाने का प्रमुख हिस्सा है। हम कचरा प्रबंधन की प्रणाली में सुधार के लिए नए-नए तरीके विकसित करेंगे।

एनजीओ चिंतन की संस्थापक और निदेशक भारती चतुर्वेदी ने कहाकचरा प्रबंधन के क्षेत्र में विकास के लिए साझेदारी काफी महत्वपूर्ण है, जिसमें कचरा बीनने वाले भी शामिल हैं। यह साझेदारी तेजी से बढ़ते हुए कचरा प्रबंधन के संकट के समाधान के लिए काफी महत्वपूर्ण है। यह परियोजना कूड़ा-कचरा बीनने वाले लोगों को घरों से कचरा एकत्र करने तक पहुंच उपलब्ध कराती है। स्वच्छ भारत के तहत दिए गए दिशा-निर्देशों की पुष्टि में यह नगरनिगम की मदद करने का अवसर देती है। उत्तरी दिल्ली नगरनिगम ने इस मुहिम का उदारता से समर्थन किया है और ठोस कचरे को अलग करने का संयंत्र स्थापित करने के लिए जगह मुहैया कराई है, जो इस समस्या का विकेंद्रीयकृत हल खोजने की दिशा में काफी महत्वपूर्ण साबित होगा।

कचरा प्रबंधन के क्षेत्र में काम करने वाले स्टार्टअप हसीरू दला की  सहसंस्थापक मिस नलिनी शेखर ने बताया, प्लास्टिक की रीसाइक्लिंग पर्यावरण की स्थिरता की दिशा में काफी महत्वपूर्ण है। हम प्लास्टिक वेस्ट के प्रबंधन की एकीकृत तकनीक के माध्यम से एक स्थिर समुदाय की स्थापना के लिए आनंदना के साथ गठबंधन कर काफी प्रसन्न है। हम इस क्षेत्र में कूड़ा-कचरा एकत्र करने वाले लोगों को व्यावसायिक पहचान देने के लिए मिलकर काम कर रहे हैं। इसके अलावा हम इस समूह के लोगों को वित्तीय और सामाजिक लाभ लेने के लिए मदद भी मुहैया करा रहे हैं, जिसके वे हकदार हैं।

हमारे प्रयास स्‍थायित्‍वपूर्ण सामुदायिक नजरिय़े से कचरा प्रबंधन के लिए आधारभूत ढांचा तैयार करने पर केंद्रित होंगे। कचरा प्रबंधन की दिशा में काम करने वाले कर्मचारियों, स्क्रैप डीलर्स और स्थानीय प्रशासन में पर्यावरण की स्वच्छता के लिए जागरूकता उत्पन्न करने पर ही हम कोशिश करेंगे।

कोका कोला इंडिया फाउंडेशन के विषय में 

कोका कोला इंडिया फाउंडेशन स्‍थायित्‍वपूर्ण विकास और सबका साथ, सबका विकास की अवधारणा पर केंद्रित है। कोका कोला इंडिया प्राइवेट लिमिटेड ने गैरलाभकारी कंपनी के रूप में आनंदना की स्थापना की थी। इसका मकसद कंपनी की कॉरपोरेट सामाजिक दायित्व (सीएसआर) के तहत की गई पहल को समुदाय के लाभ के लिए आगे बढ़ाना था। कंपनी का लक्ष्य खासतौर से उन लोगों को इस पहल का लाभ सामाजिक और आर्थिक रूप से साधन विहीन और वंचित वर्ग को प्रदान करना हैं।

इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए आनंदना ने जल प्रबंधन, स्‍थायित्‍वपूर्ण कृषि और कचरे के निपटारे क्षेत्र में कई एनजीओ और उभरते हुए स्टार्टअप्स से साझेदारी की है।

भौगोलिक रूप से आनंदना का जोर देश के पिछड़े क्षेत्रों पर है। आनंदना लगातार जमीनी स्तर पर लाभकारी समुदायों की भागीदारी से परियोजना को लागू करना, उसका रखरखाव और स्थिरता सुनिश्चित करती है।