माइग्रेंट को तबलीगी से नहीं जोड़ना चाहिए: योगी आदित्यनाथl
May 16, 2020 • Canon Times Bureau

कोरोना के खिलाफ जंग लॉकडाउन के दौरान उत्तर प्रदेश के सामने कई बड़ी चुनौतियां हैं. एक तरफ यहां योगी सरकार के सामने लोगों की सुरक्षा, उनके भोजन की व्यवस्था का दायित्व है, वहीं दूसरी तरफ प्रवासी समस्या और कोरोना के खिलाफ जंग भी जारी है. उत्तर प्रदेश के मुखामंत्री योगी आदित्यनाथ ने न्यूज़18 इंडिया से ख़ास बातचीत में कहा की वे श्रमिकों और प्रवासी मजदूरों पर बल प्रयोग के खिलाफ है और जिन्होंने ऐसा किया उन्हें आत्मावलोकन करना चाहिए. उनके अनुसार प्रधानमंत्री मोदी ने बहुत अच्छा पैकेज दिया है और अगर इसका सही उपयोग हो जाए तो किसी को कोई दिक्कत नहीं होगी.
योगी आदित्यनाथ ने कहा की तबलीगी ज़मात और मरकज़ प्रारंभ में पूरे देश में कोरोना फैलाने में कैरियर बने. “कुत्सित मंशा से काम किया गया, इसीलिए ये अक्षम्य है. तबलीगी को माइग्रेंट से नहीं जोड़ना चाहिए. तबलीगी ज़मात के कृत्यों का विरोध मुस्लिम समुदाय ने भी किया. जो लोग उस वक़्त उनके साथ खड़े थे वो भी ज़िम्मेदार हैं. उस समस्या से काफी हद तक निजात पाया गया है.”
औरैया दुघर्टना पर जताया दुख
आबादी में सबसे बड़ा राज्य होने के नाते खुद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सभी चुनौतियों से निपटने की कोशिश कर रहे हैं. शनिवार को औरैया पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि घटना बहुत दुखद है. उन्होने कहा “हादसों को रोका जा सकता है. स्पष्ट कार्य योजना है, व्यवस्था है. सवाल ये है कि सभी राज्य सरकारें भी अपनी ज़िम्मेदारी निभाएं. असुरक्षित साधनों से यातायात रोकना चाहिए. ट्रक जहां से आएं उन दोनों थाने के लोगो को सस्पेंड किया गया है और उच्च अधिकारियों को कड़ी चेतावनी दे गई है. ये घटना दुर्भाग्यपूर्ण है. हर हाल में रुकनी चाहिए. आगे अगर ऐसी घटना घटी तो कार्रवाई होगी.”
“जहां भी लापरवाही है, उसे दूर करेंगे. अप्रवासी कामगार के जीवन के साथ खिलवाड़ करने की छूट किसी को भी नहीं है. अब तक 14 लाख लोगों को हम लाए हैं. पिछले एक हफ्ते में 7 लाख लोग हम लाए हैं. लोग सरकार की अपील पर ध्यान दें. व्यवस्था बनायी है, उसमे सहयोग करें.” उन्होने आगे कहा.
पीएम के पैकेज पर सवाल उठाने वालों को दिया जवाब
प्रधानमंत्री मोदी द्वारा 20 लाख करोड़ के पॅकेज की घोषणा के बाद विपक्ष ने सवाल उठाने शुरू कर दिए हैं. इस पर योगी आदित्यनाथ ने कहा की जो लोग आज उंगली उठा रहें हैं, उनके आका ने कहा था कि एक रूपये देते हैं तो 10 पैसा गरीब को जाता है. “आज ऐसा नहीं है. मोदी जी जो भी दे रहे है वो पूरा गरीब को जा रहा है. गरीब के हक पर कोई डकैती न डाल सकेगा. पहले जो पैसा भेजते थे तो एक दल विशेष के दलाल उसे चट कर जाते थे.”
जिन्होंने देश को लूटा वो मंदिरों से सोना लेने की कर रहे बात
मंदिरों से सोना लेने वाले विवादित बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने कहा की देश के पास पर्याप्त पैसा है. धर्मार्थ संस्थाओं ने सर्वाधिक दान दिया है. जिन्होंने खुद कुछ किया नहीं, देश को लूटा है, वो ही इस तरह की बात कर रहें हैं.