विश्व पर्यावरण दिवस पर क्‍या कहना है सोनी सब के कलाकारों का
June 3, 2020 • Canon Times Bureau

सोनी सब के बालवीर रिटर्न्स के बालवीर, देव जोशी

“अगर पर्यावरण को नुकसान पहुंचता है तो मानव अस्तित्व असंभव है और इसलिए पर्यावरण की देखभाल करना मनुष्यों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। खुद की देखभाल करने के लिए, हमें पर्यावरण का ध्यान रखना होगा क्योंकि यह सामंजस्य बनाए रखने के लिए महत्वपूर्ण है। इन दिनों जब लॉकडाउन के कारण मानव गतिविधि कम है, तो प्रकृति स्वयं ही ठीक हो रही है और हमें दिखाती है कि हमें उन गतिविधियों को कम करने की आवश्यकता है जो हमारे पर्यावरण को नुकसान पहुंचा रहे हैं।”

"हरियाली बनाए रखने के लिए मैं व्यक्तिगत रूप से बहुत सारे पेड़-पौधे लगाता हूँ, चाहे वह मेरे घर पर हो या मेरे गांव में। बालवीर के रूप में मेरी भूमिका ने मुझे पर्यावरण की रक्षा करने के संदेश को अपने प्रशंसकों तक पहुंचाने का अवसर दिया है।

सोनी सब के शो भाखरवड़ी से उर्मिला उर्फ़ भक्ति राठौड़

“यह सही समय है अच्छे पर्यावरण चक्र को फिर से शुरू करने का। हमारे पर्यावरण को मौजूदा स्थिति के कारण एक किक स्टार्ट मिली है, इसलिए इसका अधिकतम लाभ उठाएं। शाम 7 बजे सूरज की रोशनी का खिड़कियों में प्रवेश करना इस बात का प्रमाण है कि हवा कितनी साफ हो गई है। जून की शुरुआत में ही दस्तक देने वाली पहली बारिश की बूंदों से पता चलता है कि पृथ्वी सेहतमंद हो चली है। मैंने पौधों को लगाने और विकसित करने के लिए अपनी लॉकडाउन अवधि का बहुत उपयोग किया है। प्रत्येक व्यक्ति द्वारा सिर्फ 5 पौधे इस दुनिया में बहुत अंतर पैदा करेंगे। ”

"तो, इस विश्व पर्यावरण दिवस पर, आइए हम उन छोटे कदमों को उठाने का संकल्प लें जो पृथ्वी के लिए सुधार की इस प्रक्रिया को बढ़ावा देने में मदद करते हैं। अपने पर्यावरण की रक्षा करते हुए, सकारात्मकता और आशा के साथ आइए हम अपना भी ख़्याल रखें।"

सोनी सब के शो तेरा क्या होगा आलिया की आलियी उर्फ़ अनुशा मिश्रा

“अपने ग्रह को बचाने की कोशिश से ही हमारा ग्रह बचा रहेगा। पर्यावरण पहले से ही पीड़ित है, और इसका श्रेय हम मनुष्य को ही दे सकते हैं। इसलिए, जो कुछ भी, मानव आगे नुकसान को रोकने के लिए कर सकता है, वह बहुत महत्वपूर्ण है ताकि प्रकृति भविष्य की पीढ़ी के लिए निर्वाह करे। इन दिनों, क्योंकि इंसान घर पर बंधे हुए हैं, पृथ्वी धीरे-धीरे अपना उपचार स्वयं कर रही है। इस अवधि ने हमें जो सिखाया है वह यह है कि हमें अपनी गतिविधियों पर नज़र रखने की ज़रूरत है, ताकि पृथ्वी को आराम मिले और यह साँस ले पाए।"

“व्यक्तिगत रूप से, मैं संसाधनों की बर्बादी को कम करने के लिए बहुत सी चीजों का ध्यान रखती हूं, उदाहरण के लिए, मैं स्नान करने के लिए शावर के बजाए बाल्टी का उपयोग करती हूं क्योंकि इससे मुझे पानी बचाने में मदद मिलती है। इसके अलावा, मेरी माँ और मैं प्लास्टिक की बोतलों का पौधों के कंटेनर के रूप में दोबारा उपयोग करते हैं । इस विश्व पर्यावरण दिवस पर, मैं सभी से अनुरोध करना चाहूंगी कि वे इस्तेमाल में आने वाली वस्तुओं की मात्रा और उनके डिस्पोज़ल को लेकर सचेत रहें। सुनिश्चित करें कि गीला कचरा और सूखा कचरा अलग रखें । इसका पुनःउपयोग करें और रीसाइकल करें और अपने घर पर ज़्यादा से ज़्यादा पेड़ लगाने की कोशिश करें। ”