ज़रीन खान ने अपनी अगली मानवीय कहानी 'हम भी अकेले तुम भी अकेले' में एक लेस्बियन का किरदार निभाया
June 9, 2020 • Canon Times Bureau

प्रतिभाशाली अभिनेत्री ज़रीन खान, जिन्होंने पहले कई फिल्मों में अपने प्रदर्शन से सभी को चौंका दिया था, उन्होंने अपनी अगली फिल्म के साथ एक अलग तरह का किरदार निभाया है। अपनी आने वाली रिलीज़ के लिए 'हम भी अकेले तुम भी अकेले' के लिए ज़रीन ने एक समलैंगिक चरित्र निभाया है। फिल्म, दो व्यक्तियों वीर और मानसी की एक सुंदर कहानी है जिसमे एक समलैंगिक पुरुष और एक समलैंगिक लड़की रोड ट्रिप पर निकलते है जिनका उद्देश्य भारत में समलैंगिकता से जुड़े सामाजिक पूर्वाग्रहों और कलंक को चुनौती देना है। जबकि कई मुख्यधारा के अभिनेताओं - पुरुष और महिला दोनों - ने फिल्मों में समलैंगिक चरित्रों को निभाने में हिचकिचाया है, ज़रीन ने समाज में व्याप्त कुरीतियों पर प्रकाश डालने के लिए इसे अपने ऊपर ले लिया है। 

यह फिल्म 'अंग्रेजी में कहते है' के निर्देशक हरीश व्यास द्वारा निर्देशित है. फिल्म को पूरी तरह से दिल्ली और नोएडा और धर्मशाला के आसपास शूट किया गया है। 'हम भी अकेले तुम भी अकेले' में अंशुमान झा ने पुरुष प्रधान वीर की भूमिका निभाई है और साथ ही इस परियोजना पर एक निर्माता के रूप में भी काम कर रहे हैं। ज़रीन ने शेयर किया, " हम भी अकेले तुम भी अकेले' दो व्यक्तियों वीर और मानसी की एक मानवीय कहानी है - वीर जो गे और मानसी है, जो लेस्बियन है। यह उनकी दोस्ती की कहानी है और यह एक सड़क यात्रा और घटनाओं के बारे में है, जो उनके जीवन को बदल देती है । यह एक ऐसी कहानी है जो मेरे दिल के करीब है और समाज में, खासकर भारत जैसे देश में बाहर लाने की जरूरत है। 

वह कहती हैं कि यह फिल्म बिल्कुल भी उपदेशात्मक नहीं है "हमारी स्वतंत्रता के लिए लड़ने और स्वतंत्रता होने के बावजूद, और धारा 377 को मंजूरी दी जाने के बावजूद, अभी भी ऐसे परिवार हैं जिनमें आप अपने सेक्सयुअल स्टेटमेंट के साथ नहीं रह सकते हैं। इसलिए स्वतंत्रता अभी भी पूरी तरह से समाज के कुछ वर्गों में और कुछ परिवारों में नहीं है, हालांकि सरकार ने इसे मंजूरी दे दी है।"

फिल्म समलैंगिकता के विषय को एक हास्य तरीके से पेश आती है। इसका प्रीमियर न्यूयॉर्क में साउथ एशियन इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल, मैनहट्टन में पिछले साल नवंबर में हुआ था जहाँ इसने बेस्ट फिल्म का अवार्ड जीता था। फिल्म को इस साल जनवरी में राजस्थान फिल्म महोत्सव में भी प्रदर्शित किया गया, जहां इसने सर्वश्रेष्ठ निर्देशक, सर्वश्रेष्ठ अभिनेता और सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का पुरस्कार जीता। मतलब हमें बहुत सराहना मिल रही है।

इस फिल्म को अब डिजिटल रिलीज के लिए तैयार किया जा रहा है, ज़रीन ने संकेत दिए "यह मार्च महीने में रिलीज़ के लिए तैयार की गई थी, लेकिन इसी दौरान लॉकडाउन की घोषणा की गई और हम उम्मीद कर रहे थे कि लॉकडाउन मई तक खत्म हो जाएगा। लेकिन ऐसा नहीं हुआ। मुझे नहीं लगता कि सिनेमाघरों के खुलने और उसके बाद इसे रिलीज़ करने के लिए और इंतजार करना समझदारी है। यह कब होगा इसमें अभी अनिश्चितता है। इसलिए निर्माताओं ने इसे ओटीटी प्लेटफार्मों पर कई अन्य फिल्मों की तरह रिलीज़ करने का फैसला किया है " इस तरह की भूमिका के लिए बहुत सारी तर्कशीलता और दिल की जरूरत हो सकती है, ज़रीन को इसे लेने के लिए शुक्रिया।